संजीव शुक्ल ‘अतुल’

कुछ मन की बातें

16 Posts

3 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12745 postid : 1111826

अब देश बन गया मधुशाला

Posted On: 31 Oct, 2015 Others,कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लोकतंत्र में लोक नहीं ,है केवल तंत्रों का जाला
लोग पी रहें हैं मन भर अब देश बन गया मधुशाला।
पाखंडी सरकार चलाते ,देश-प्रेम का स्वांग रचाते
जन -सेवक का ओढ़ लबादा ,कुर्सी पर अधिकार जताते .
सत्ता की मदहोशी में तुमने क्या -क्या है कर डाला
लोग पी रहें हैं मन-भर .अब देश बन गया मधुशाला।
वोट की खातिर मजहब बांटें ,जाति -धर्म पर प्रेम दिखाते .
आपस में में लड़वाकर सबको ,गीता का उपदेश सुनाते .
लोकतंत्र के रंगमंच पर घोटालों का नया पियाला
लोग पी रहें हैं मन-भर .अब देश बन गया मधुशाला।

-संजीव शुक्ल ‘अतुल’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran