संजीव शुक्ल ‘अतुल’

कुछ मन की बातें

20 Posts

7 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12745 postid : 1333725

"प्रभु अगला जनम मोहि पुलिस का दीजो"

Posted On: 7 Jun, 2017 हास्य व्यंग में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इधर कई दशकों से पुलिस व्यवस्था पर गहन गंभीर अध्ययन किया गया और नतीजे के तौर पर जो निकल कर आया वह इस गरिमामयी व्यवस्था का चरित्र हनन जैसा कुछ था, पर वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है। यह शानदार व्यवस्था है,एक झन्नाटेदार जॉब है। जो कुछ है वह सब मीडिया की करतूत है। वैसे, इसमें कुछ योगदान उन चलताऊ किस्म के निकम्मे,निंदा-प्रिय लेखकों का भी है जो विषयवस्तु के अभाव में पुलिस पर तमाम तरह की उल्टी सीधी बातें लिखते रहते हैं। कुल मिलाकर मीडिया ने जो भारतीय पुलिस व्यवस्था की ललित ललाम छवि पेश की है उसके चलते कई दशकों तक कई बापों ने अपनी होनहार औलादों को पुलिस व्यवस्था का अंग बनने से रोके रखा जैसे वह पुलिस सेवा में न जाकर के मानो चोरों की जमात में शामिल होने जा रहें हों। मीडिया को यह भी समझ नहीं कि उसके इस व्यवहार से अंतरराष्ट्रीय पुलिस जगत में भारतीय पुलिस व्यवस्था की क्या छवि बनकरके उभरेगी। आखिर इंटरनेशनल प्रेस्टीज भी कोई चीज होती है।
समय सबका बदलता है सो इसका भी बदला। सारी दुरभिसंधियों के बावजूद ट्रेंड बदला और स्वर्णयुग फिर से लौट आया। जो लोग पहले इस नौकरी के प्रति गलत रवैया अख्तियार किए हुए थे, वही अब अपने होनहारों को इस व्यवस्था में डालने के लिए जुगाड़ तलाशने में जुट गए। कुछ लड़के तो अपने-अपने बाप-दादाओं से इतना उकसाए गये कि अब उनकी नींदों में IAS/PCS बनने की जगह उन्हें पुलिस भर्ती के सपने आने लगे। वैसे भी इस टाइप की नई पीढ़ी प्री, मेंस और इंटरव्यू की निस्सारता को समझ चुकी है। वह एक बार में ही नौकरी वाले एग्जाम को रौंदने के फेवर में है। एक भर्ती और तिस पर तीन-तीन इम्तिहानों का कॉन्सेप्ट इस पीढ़ी को क्या किसी भले आदमी को समझ में नहीं आ सकता। वास्तव में यह समय, ऊर्जा और पैसे की बर्बादी वाला कांसेप्ट है।
पुलिस भर्ती के अपने आकर्षण हैं जो लड़के अपने बाप-दादाओं और स्कूली मास्टरों की रोज-रोज की नसीहतों के चलते अपने सामने वाले को कभी जी भर के गरिया,लतिया नहीं सके अथवा कई-कई डिब्बे च्यवनप्रास हजम करने के बावजूद लाइलाज शारीरिक कमजोरी के कारण अपने ‘दुश्मन को देख लेने’ की धमकी तक न दे सकें; ऐसे लोगों के लिए यह नौकरी वरदान जैसी दिखाई पड़ी। कहने का मतलब जो लोग यह सोचने लगे थे कि अब तो यह हसरतें इस पार्थिव शरीर के साथ ही दफन हो जाएगी, उनके लिए यह योजना संजीवनी समान हुई । इसमें सभी हसरतों को पूरा करने के लिए सारी सुविधाएं सहज ही मुहैया है।किसी को भी “कूटने के संवैधानिक अधिकार” की सहज उपलब्धता इस सेवा की एक अन्य विशिष्टता है जो अन्य किसी भी सेवा में नही है।
अभ्यर्थी इसे हीन भावना से उबरने के सुनहरे मौके के रूप में देखते हैं ।
इसके अलावा अमितजी और मिथुन दा के पुलिसिये रुतबे ने भी नए लड़कों के दिलो-दिमाग पर गहराई से असर डाला है,जिससे वह ताउम्र निकलना नहीं चाहते। साथ ही जॉब के दौरान ही बीबीशुदा होने की सम्भावनाएं भी विद्यमान रहती है। अपने आप अपने पसन्द की लड़की से शादी करने की तमन्ना (जैसा कि फिल्मों में होता ही है) किसे नही भड़काती। और तो और दुर्घटना के बाद पहुँचने से जान का भी जोखिम नहीं; पिस्टल के साथ मुआयना करने का रूतबा सो अलग।
हालाँकि इस बात को लेकर बड़ा हो-हल्ला होता है कि पुलिस सब कुछ निपटने के बाद पहुंचती है। यह बहुत ही घटिया किस्म का आरोप है। अरे भाई घटना होने के पहले कोई कैसे पहुँच सकता है?पुलिस है कोई अंतर्यामी तो है नही। अगर गलती से पहूँच भी जाय तो क्या गारन्टी है कि लोग यह नही कहेंगे कि पुलिस को तो सब पहले से ही पता था,वह उधर से मिली हुई है।
पुलिस के लेट पहुंचने की तथ्यात्मक वजहें है जिसे लोग नजरअंदाज कर देते हैं। भाई पुलिस तभी तो पहुंचेगी जब उसे सूचना होगी और सूचना तभी होगी जब कोई आदमी पिट-पिटाकर सामने वाले को कानूनी ललकार लगाते हुए तथा लड़ाई को पोतों-परपोतों तक घसीटने की ग़रज से पुलिस से बाकी की कार्यवाही निपटाने के लिए प्रार्थना करेगा। पुलिस की सक्रियता यहीं से शुरू हो जाती है। पुलिस शुरू से ही समानता के सिद्धांत को लेकरके चलती है; सबसे पहले तो वह उसको ठोंकती है जिसके खिलाफ शिकायत आई है। उसके बाद अगला नंबर पीड़ित,कुचलित शिकायतकर्ता का आता है। यह पिटाई शिकायत को थाने में लाने के एवज़ में मिलती है। बात भी सही है जब आपमें लड़ाई को अंजाम तक पहुँचाने की कूबत नही है तो आप लड़ते ही क्यों हैं? अब अगर कोई यह चाहे कि लड़ाई का शेष भाग पुलिस निपटाए तो यह तो सरासर गलत बात है। यह तो अपनी जिम्मेदारी दूसरे पर थोपने जैसा है,जिसकी क़ानून कतई इजाज़त नही देता इसलिए दोनों ही पूजे जाते हैं। यह पिटाई सिद्धांततः लड़ाई-झगड़े को हतोत्साहित करने के लिए की जाती है ताकि लड़ाई मुक्त-समाज का निर्माण हो सके। यह पिटाई उन लोगों के लिए चेतावनी है जो हल्की-फुल्की लड़ाई की इच्छाशक्ति रखने के बावजूद बड़ी लड़ाई मोल लेने की तमन्ना रखते हैं।
एक और आरोप जो आजादी के बाद से लगातार इस व्यवस्था पर लगता आ रहा है वह यह कि पुलिस अपराधियों को पकड़ती नहीं है उलटे उन्हें भागने का मौका देती है; ऐसा कहने वाले शायद पुलिस के आत्म बल से परिचित नहीं हैं। यह हमारी सनातन परंपरा रही है कि हम भागने वालों पर वार नहीं करते। सो इसी सनातन धर्म का पालन करते हुए हमारी पुलिस भागने वालों की पीठ पर फायर नहीं करती। रही बात पकड़ने की तो अगर ठिकाने पता है तो जब चाहे तब पकड़ लेंगे।
छिद्रान्वेषी लोगों की तो आदत होती है कमी ढूंढने की उन्हें नहीं पता कि पुलिस वाले किन-किन परिस्थितियों में काम करते हैं। आखिर वह भी इंसान ही है। चोर-उचक्कों को पकड़ने के साथ ही अब तो नेताओं के जीवन की सुरक्षा का दायित्व भी इन्ही के कंधों पर आ टिका है। अभी हाल ही में पूर्व सरकार के एक मंत्री लापता हो गए थे,जिन्हें महिला-जाति के शील-संरक्षण के एक विशेष मामले मे पुलिस बहुत शिद्दत से तलाश कर रही थी, पर समस्या यह नहीं थी। समस्या दरअसल यह थी कि मंत्री महोदय की सुरक्षा में लगे कुछ पुलिसकर्मी भी साथ में ही लापता हो लिए। मीडिया में बड़ी हाय-तौबा मची। मगर इस मीडियाटिक कोलाहल में पुलिस का दर्द पढ़ने की कोशिश किसी ने नहीं की। पुलिस की बात में दम था । उनका यह कहना कि जब हम खुद ही लापता है तो किसी को कैसे ढूंढे?
एक और घातक आरोप जो भारतीय पुलिस व्यवस्था के हृदय को चीरता रहा है, वह यह कि पुलिस अपराधियों का संरक्षण करती है। यह आरोप तो प्रथमदृष्टया खारिज होने के लायक है । भाई यह कौन नहीं जानता कि नेताओं की तरह अपराधियों में भी गुटबाजी होती है। अब जो गुट पकड़ में आ गया उसको फाइव-स्टार होटल में तो ठहराएंगे नहीं, उनको जेल में ही डालेंगे जब उनको जेल में रखेंगे तो उनकी रक्षा की जिम्मेदारी भी निभानी पड़ेगी । अगर रक्षा नहीं करेंगे तो बाहर छुट्टा घूम रहा दूसरा गुट तो इनको टपका के चला जाएगा। यही वह जगह है, जहां पुलिस का मानवीय चेहरा अपने पूरे शबाब के साथ उभर कर आता है। लगभग सभी सरकारों ने पुलिस तंत्र को सम्मान दिया है तथा उन के माध्यम से बात-बात पर धरना-प्रदर्शन करने वाले नेताओं के सम्मान का अपहरण भी किया है। इसी क्रम में एक बार तमिलनाडु की दिवंगत अम्मा ने आधी रात को जो कई कालों तक रहे मुख्यमन्त्री रहे हैं को घर से उठवा लिया था। ख़ैर छोड़िये इन बातों को ….
हाँ तो बात सिर्फ पुलिस की होगी…. इधर गत सरकार ने एक अद्भुत सेवा शुरू की है। 100 नंबर की। ऐसी सेवा जिसमें आप याद भर करें और पुलिस हाजिर। पर एहसान फरामोश जनता ने फिर भी वोट नहीं दिया।
इस त्वरित सेवा पर भी लोगों द्वारा छींटाकशी की गई। हुआ यह कि एक जगह 100 नंबर की गाड़ी ने कुछ सवारियां बिठा ली इस पर समाज का “देखि न सकइ पराई विभूती” वाला तबका बड़ा नाराज हो उठा; तुरंत ही जांच बैठ गई ।बात निकली तो फिर निलंबन पर ही बनी। अब आप बताइए कि अगर खाली गाड़ी इधर-उधर घूम रही है और ऐसे में यदि राह चलते कुछ सवारियां बिठा ली गयीं तो कौन-सा अपराध हो गया। इस बीच सवारियों ने खुश होकर के कुछ दे दिया और भाई साहब ने उसे आशीर्वाद समझकर रख लिया तो कौन सा गुनाह हो गया । कोई अलग से तो पेट्रोल खर्च नहीं हुआ। किसी को गंतव्य तक छोड़ना तो समाज सेवा ही माना जाएगा। ‘कर्म ही पूजा है’ में अखण्ड विश्वास रखते हुए पुलिसवाले निर्लिप्त भाव से अपने काम में लिप्त रहते हैं। इन छोटी-मोटी दिक्कतों कोअगर ज्यादा तूल न दे तो यह सेवा आदिकाल से ही अपने आंतरिक सौंदर्य-बोध के कारण लोगों को लुभाती रही है। “सैंया भए कोतवाल अब डर काहे का” जैसी निर्भीकतावाली उक्ति ऐसे ही नहीं प्रचलन में आ गयी। तमाम कुवांरी लड़कियो की दिली तमन्ना रहती है कि उन्हें पति के रूप में कोतवाल मिले और फेरे कोतवाली में हो।
कुल मिलाकर इस सेवा के सुनहरे अतीत का सम्मोहन आज भी बरकरार है । लड़कों की भी तमन्ना रहती है कि प्रभु अगला जन्म मोहे पुलिस का दीजो…….

…संजीव शुक्ल’अतुल’



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

    shukla sanjeev के द्वारा
    June 11, 2017

    डॉ0साहब मेरे लेख को शामिल करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। पुनः सादर आभार…… ….संजीव शुक्ल’अतुल’


topic of the week



latest from jagran